दद्दू की चोट पर हुई किसकी पिटाई | Stories in hindi

puranikahani.in

दद्दू की चोट पर हुई किसकी पिटाई | Stories in hindi

दद्दू और मोहित दोनों भाई थे। दोनों एक ही स्कूल में पढ़ते थे, मोहित दद्दू से 2 साल बड़ा था। दोनों एक साथ स्कूल जाते थे, लौटते समय दोनों साथ आते थे।

एक दिन की बात है कि दद्दू अपने दोस्तों के साथ तेज कदमों से घर लौट रहा था। अचानक उसका पैर एक पत्थर पर पड़ा था, किताब-कॉपी का बोझ अपने कंधे पर लादकर वह संभल नहीं पाया और नीचे गिर गया।

दादू को चोट लगी, उनके घुटने में खरोंच आ गई ………।

दद्दू की चोट पर हुई किसकी पिटाई – दद्दू की चोट पर हुई किसकी पिटाई | Stories in hindi

जिसके कारण कद्दू जोर-जोर से रोने लगा।

मोहित वापस आ रहा था और उसने तुरंत अपने भाई को उठाया।

मोहित दादू को समझाने में काफी होशियार था लेकिन वह चुप नहीं हो रहा था।

मोहित ने तुरंत एक उपाय सोचा और सड़क पर 4-5 किक मार दी और दादू से कहा, उसने आपको चोट पहुंचाई, मैंने उसे चोट पहुंचाई।

दद्दू सोच में पड़ गया, उसने भी 8 -10 मार दिए।

उसके और भी दोस्त थे,

उन्होंने सड़क पर उछलना भी शुरू कर दिया, जिससे सड़क पर और चोट लग गई।

जो था, अब वह मनोरंजन का साधन बन गया। कुछ समय बाद सभी वहां से चले गए थे।

घर पहुंचने पर, मोहित ने दद्दू की चोट को दिखाया और घाव को डेटॉल और साफ पानी से साफ किया गया।

संदेश – समय पर निर्णय हमेशा सही होता है।

ENGLISH

Daddu and Mohit were both brothers. Both studied in the same school, Mohit was 2 years older than Daddu. Both went to school together, both of them came together on their return.

It is a matter of one day that Daddu was returning home with his friends with fast steps. Suddenly, his foot was lying on a stone, he could not bear the burden of the book-copy on his shoulder and fell down.

Dadu got hurt, his knee got scratched ……….

Due to which the pumpkin started crying loudly.

Mohit was returning and he immediately picked up his brother.

Stories in hindi – दद्दू की चोट पर हुई किसकी पिटाई | Stories in hindi

Mohit was smart enough to convince Dadu but he was not being silent.

Mohit immediately thought of a remedy and kicked 4-5 on the road and told Dadu, he hurt you, I hurt him.

Dadoo got into thinking, he also killed 8 -10.

He had more friends,

They also started bouncing on the road, causing further injuries on the road.

What was, now becomes a means of entertainment. After some time all had left.

On reaching home, Mohit showed Daddu’s injury and the wound was cleaned with Dettol and clean water.

Message – Timely decision is always right.

READ ALSO –

तैमूर लंग की कीमत : लोक-कथा / Best Hindi Folk Tale

अपने गलती का पछतावा | Inspirational stories in hindi