स्वामी जी का उपदेश | Motivational and Inspirational Story | Hindi kahaniyan | Latest stories | puranikahani.in

puranikahani.in

स्वामी जी का उपदेश | Motivational and Inspirational Story

स्वामी जी का उपदेश | Motivational and Inspirational Story – बार समर्थ रामदासजी एक घर के अंदर भीख मांग रहे थे और ऐसा लग रहा था- “जय जय रघुवीर समर्थ!” हर बार जब वह घर से बाहर जाता है, तो वह भिक्षा मांगता है और कहा जाता है, “महात्माजी, कोई भी!”

दूसरे दिन स्वामीजी ने पुन: उस घर के सामने आवाज दी – “जय जय रघुवीर समर्थ !”उस घर की स्त्रीने उस दिन खीर बनायीं थी, जिसमे बादाम-पिस्ते भी डाले थे।वह खीर का कटोरा लेकर बाहर आयी। स्वामीजीने अपना कमंडल आगे कर दिया। वह स्त्री जब खीर डालने लगी, तो उसने देखा कि कमंडल में गोबर और कूड़ा भरा पड़ा है। उसके हाथ ठिठक गए। वह बोली, “महाराज ! यह कमंडल तो गन्दा है।”

स्वामी जी का उपदेश –

स्वामीजी बोले, “हाँ, गन्दा तो है, किन्तु खीर इसमें डाल दो।” स्त्री बोली, “नहीं महाराज, तब तो खीर ख़राब हो जायेगी। दीजिये यह कमंडल, में इसे शुद्ध कर लाती हूँ।”

स्वामीजी बोले, मतलब जब यह कमंडल साफ़ हो जायेगा, तभी खीर डालोगी न ?”

स्त्री ने कहा : “जी महाराज !”

स्वामीजी बोले, “मेरा भी यही उपदेश है। मन में जब तक चिन्ताओ का कूड़ा-कचरा और बुरे संस्करो का गोबर भरा है, तब तक उपदेशामृत का कोई लाभ न होगा। यदि उपदेशामृत पान करना है, तो प्रथम अपने मन को शुद्ध करना चाहिए, कुसंस्कारो का त्याग करना चाहिए, तभी सच्चे सुख और आनन्द की प्राप्ति होगी।”

READ MORE :

मेरे पिता | Motivational story in Hindi | Hindi kahaniyan 

माँ :ईश्वर का भेजा फ़रिश्ता | Emotional Story on Mother’s Day